फिर मातम को, हुजूम जुटता रहा...

हम तमाशबीन रहे,शहर लुटता रहा
फिर मातम को, हुजूम जुटता रहा

सवाल है ये सँस्कारों और संस्कृति पर 
हर कोई दूसरे से उम्मीद करता रहा

नारे और सेमिनारें सब हवा हो गयी 
भ्रूण में लड़की हुयी गर्भ गिरता रहा

@vikram
Post a Comment